Ponzi Scheme Kya Hai और इस Scam से कैसे बचे? कुछ उदाहरण

Ponzi Scheme Kya Hai और इस Scam से कैसे बचे? कुछ उदाहरण

Spread the love

देश-विदेश में ठगी करने वाली बड़ी नेटवर्क मार्केटिंग बिजनेस योजनाओं में Ponzi Scheme भी शामिल है। आप शायद PACL योजना के बारे में जानते होंगे। इस योजना के द्वारा 5 करोड़ से भी अधिक लोगों को 60,000 करोड़ का चूना लगाया गया है, यानी यह बहुत बड़ा और खतरनाक घोटाला हुआ था, लेकिन कैसे?

PACL एक प्रकार की पोंजी योजना थी, जो लोगों को अपनी आकर्षक स्कीम में फंसा कर उनके पैसे एक फ्रोड स्कीम में लगाये जाते थे। इन पैसों को आगे से आगे घुमाकर कुछ लोगों को मुनाफा दिया जाता था, और अंत: कंपनी अनेकों लोगों के करोड़ों रूपये लेकर भाग जाती थी। आज भी इसी तरह के कई पोंजी योजना घोटाले हुए हैं और हो रहे हैं।

इस लेख में हम जानेंगे कि Ponzi Scheme Kya Hai, इसे कैसे पहचाना जाए और इससे कैसे बचा जाए? इस तरह के घोटालों से बचने के लिए यह लेख लिखा गया है, तो आइए पढ़ते हैं पोस्ट।

आप भी पढ़ सकते हैं PACL फ्रॉड केस (योजना) की पूरी कहानी।

Ponzi Scheme Kya Hai और यह Froude Scheme क्यो है

पोंजी योजना नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी के बिजनेस मॉडल पर आधारित बनाई गई योजना होती है, जिसमें लोगों को पैसा निवेश करना होता है, जिसके बदले में बड़े लाभ का वादा किया जाता है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि इस योजना में आपको साधारण ब्याज दर के रूप में नहीं, बल्कि 100% नो-रिस्क के दावे पर रिटर्न दिया जाता है।

इस योजना में धन का निरंतर निवेश होता आया है और यह निवेश समय-समय पर होता रहा है, जिसमें पुराने निवेशकों को नए निवेशकों से धन प्राप्त होता है। इस तरह यह सिलसिला चलता रहता है और नए निवेशक जुड़ते जाते हैं। अंत में एक स्थिति ऐसी आती है, जब कंपनी के साथ नए निवेशकों की संख्या बहुत अधिक हो जाती है, और उन्हें बड़ा निवेश मिल जाता है, तो कंपनी सही अवसर देखकर भाग जाती है।

इस योजना में सही समय पर निवेश करने वाले को लाभ होता है और दूसरों को नुकसान होता है। इस योजना में आपको दोगुना पैसा मिलता है और इसके लिए किसी कठिन परिश्रम की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन 95% संभावना है कि आपका पैसा डूब सकता है।

इस Ponzi Scam में अधिकतर कंपनीयां बड़े निवेश का इंतजार करती है। जैसे ही कंपनी में बड़ा निवेश आता है, कंपनी उसी समय भाग जाती है, और जो भी नए निवेशक जुड़ते हैं, उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ता है।

नोट: यह भी दिलचस्प बात है कि इस योजना की शुरुआत चार्ल्स पोंजी ने की थी, इसलिए ऐसी सभी योजनाओं को पोंजी योजना के नाम से जाना जाता है। चार्ल्स पोंजी ने पहली बार 1920 में अपनी कंपनी के लिए Ponzi Scheme पर आधारित योजना बनाई थी, लेकिन ऐसी धोखाधड़ी योजनाएं पहले से ही चल रही थीं।

क्यों है यह स्कीम फ्रॉड

मुझे उम्मीद है कि आप Ponzi Scheme kya hai, इसका अर्थ और कार्यप्रणाली समझ गए होंगे, लेकिन अब सवाल आता है कि यह Ponzi Scheme fraud क्यों है? जबकि इस स्कीम में हमें दोगुना रिटर्न मिलता है और मेहनत करने की जरूरत नहीं है।

फ्रॉड का मतलब होता है किसी भी व्यक्ति का पैसा चुराना और पोंजी स्कीम का मतलब होता है फ्रॉड। हाँ, यह सच है कि कंपनी आपको शुरुआत में बहुत सारा पैसा देती है और इस लालच में आप दूसरे लोगों को भी निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। इससे बहुत से लोग आपका अनुसरण करते हैं, लेकिन सभी नए निवेशकों को कभी भी लाभ नहीं मिलता है, बल्कि अपना पैसा खो देते हैं, क्योंकि कंपनी एक बड़ा निवेश प्राप्त करके भाग जाती है।

इस योजना में शुरुआती लोगों को फायदा होता है, लेकिन बाद में आने वाले नए निवेशकों को काफी पैसा गंवाना पड़ता है और अवैध कंपनी इस तरह पैसा कमाकर भाग जाती है. यह बिल्कुल भी जरूरी नहीं है कि आप जिस कंपनी से जुड़ रहे हैं, उसमें आप नए हों। यह बिल्कुल संभव है कि आपके निवेश के तुरंत बाद भी कंपनी भाग जाए, इसलिए इस योजना को धोखाधड़ी कहा जाता है।

पोंजी और पिरामिड स्कीम में क्या अंतर है

पिरामिड योजना भी एक प्रकार की धोखाधड़ी योजना है, जो लोगों के निवेश को लेकर भाग जाती है, लेकिन यहां पैसे चुराने का तरीका अलग है। पिरामिड स्कीम में हमेशा एमएलएम या डायरेक्ट सेलिंग के नाम पर पैसा लिया जाता है, क्योंकि इन दोनों स्कीमों में फर्क करना थोड़ा मुश्किल होता है.

Pyramid Scheme योजना भी एमएलएम के समान है, जिसका अर्थ है कि आपको इस योजना में खुद को बड़ा निवेश करना होगा, उसके बाद आपको अन्य लोगों को भी योजना में लाना होगा। इस योजना में आप लोगों को जोड़कर एक नेटवर्क बनाते हैं और कई लोगों को योजना से जोड़ते हैं।

इन दोनों योजनाओं के बीच के अंतर को देखते हुए पिरामिड योजना की संरचना निश्चित है, और पोंजी योजना में ऐसा नहीं है। इसके अलावा पोंजी स्कीम में कई गुना ज्यादा पैसा कमाने का लालच दिया जाता है और यह दुगुना पैसा शुरुआती समय में मिल भी जाता है. पिरामिडों में यह प्रक्रिया थोड़ी धीमी होती है, लेकिन ज्यादातर लोग इस योजना में फंस जाते हैं।

घोटाले के इतिहास पर नजर डालें तो पोंजी स्कीम के रूप में पहला घोटाला अमेरिका में बर्नी मैडॉफ की कंपनी ने किया था, जिसमें 45,000 करोड़ रुपये की ठगी की गई थी. भारत में भी सहारा, शारदा और PACL आदि कई कंपनियों ने घोटाले किए हैं। इसके अलावा कुछ साल पहले फ्यूचर मेकर (12,000 करोड़ रुपये का घोटाला) और आरएमसीएल यूनिवर्स जैसी कंपनियों ने एमएलएम के नाम पर पिरामिड स्कीम के जरिए घोटाले किए हैं।

पिरामिड योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप हमारा एक लेख पढ़ सकते हैं, जिसमें हमने पिरामिड और नेटवर्क मार्केटिंग के बीच का अंतर समझाया है और पिरामिड योजना से बचने के तरीके भी साझा किए हैं। इसे पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें-

पोंजी योजना का पता कैसे लगाएं

आप पोंजी स्कीम जैसी फ्रॉड कंपनियों से बच सकते हैं, इसके लिए आपको कुछ बातों को ध्यान में रखते हुए किसी भी कंपनी से जुड़ना होगा। इन पॉइंट्स से आप आसानी से एक सही और अच्छी MLM कंपनी की पहचान कर सकते हैं और उनमें से सही कंपनी का चुनाव कर सकते हैं। ये पॉइंट्स हमने नीचे दिए हैं-

बड़ा रिटर्न (दो बार)

दुनिया में कई अच्छी कंपनियां भी हैं, जो आपको प्रॉफिटेबल (6% से 12% इंटरेस्ट) इंटरेस्ट देती हैं और ये कंपनियां आपको ज्यादा इंटरेस्ट नहीं दे पाती हैं, लेकिन पोंजी स्कीम की कंपनी आपको कई गुना ज्यादा इंटरेस्ट देने का वादा करती है। .

रिटर्न वारंटी और नो रिस्क प्रॉमिस

इस प्रकार की योजना की कंपनियां आपको 100% रिटर्न और कोई जोखिम नहीं देने का वादा करती हैं, जबकि म्यूचुअल फंड, क्रिप्टोकुरेंसी और शेयर बाजार जैसी कई योजनाओं में, कम ब्याज दरें भी 100% रिटर्न और 0% जोखिम का वादा नहीं करती हैं।

व्यापार मॉडल की भ्रामक रूपरेखा

ये कंपनियां अपना मॉडल पूरी तरह से नहीं दिखाती हैं; यानी पैसा कहां से आता है और कहां जाता है, इसकी पूरी जानकारी कभी नहीं दी जाती। यहां आप योजना में उलझे हुए हैं और आपका ध्यान केवल लाभ पर है।

ईएमआई में रिटर्न की योजना (समान मासिक किस्त)

इस योजना में आपको ईएमआई पर ही पैसा मिलेगा, क्योंकि ये कंपनियां नए निवेशकों से पैसे लेकर आपको पैसा देती हैं, और इसमें समय लगता है, इसलिए आपको ईएमआई पर रिटर्न मिलता है।

कुछ अन्य बिंदु

  • अगर आप निवेश करना चाहते हैं तो छोटे निवेश से शुरुआत करें।
  • उस कंपनी के सभी दस्तावेजों की जांच करें और अतीत के आपराधिक रिकॉर्ड की जांच करें।
  • साथ ही सामने वाले के अविश्वसनीय दावों पर पूरी तरह से विचार करें और फिर अपना निर्णय लें।

निष्कर्ष

पोंजी योजना से संबंधित सभी जानकारी इस लेख में दी गई है और आशा है कि इस लेख को पढ़ने के बाद आप ऐसी धोखाधड़ी योजनाओं से बच जाएंगे।

पोंजी स्कीम की तरह पिरामिड स्कीम भी एक फ्रॉड स्कीम है और इससे बचना बहुत जरूरी है, हालांकि इसके लिए हमने विस्तार से एक लेख लिखा है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.